newstimesindia.com [Edited by: Mahi Jhawar]

Last updated: 14-01-2018 17:01:38 PM

  • अपनी कलम से लोगों के बीच अपनी पहचान बनाने वाली महाश्वेता देवी का आज 92वां जन्मदिन है. आज महाश्वेता देवी इस दुनिया में नहीं है पर उनके लेखों एवं उनके संघर्षो को भूल पाना संभव ही नहीं है. ऐसे में आज गूगल द्वारा दिया गया डूडल का उपहार महाश्वेता देवी के हमारे बीच ना होने पर भी याद करना उनकी उपलब्धि को दर्शाता है. देवी ने अपने जीवन में प्रारंभ से ही महिलाओं, आंदोलनों एवं अत्याचारों के विरुद्ध अपनी कलम को हथियार बना लिखती रही है. देवी का साहित्य में रचनात्मक लेखन बहुत ही सराहनीय रहा है.

    कौन है महाश्वेता देवी?

    महाश्वेता देवी का जन्म 14 जनवरी 1926 में ढाका (बांग्लादेश) में हुआ था. पिता मनीष घटक और माता धारिणी देवी थे, लेखन की कला और लोगों के प्रति प्रेम ये कला उन्होंने अपने माता-पिता से ही प्राप्त की थी. गूगल के डूडल में महादेवी के हाथ में किताब और पेन द्वारा उन्हें कुछ लिखते हुए दर्शाया है और उनके पीछे अलग-अलग वेशभूषा में कुछ लोगों को दर्शाया गया है, इन लोगों से देवी का संबंध ये है की ये समाज सुधार और आदिवासियों के हित के लिए एक आवाज़ उठाने वाली स्त्री रही है और जन कल्याण के लिए बहुत ही संघर्ष किया है.

    देवी का नाम बड़े लेखकों में शामिल किया जाता है. उन्होंने करीब 100 उपन्यास और 20 कहानियाँ लिखी है. जिनमे सबसे पहला झांसी की रानी पर लिखा था. जो 1956 में पब्लिश हुआ. इनकी कहानियों और उपन्यासों पर फिल्मे भी बनी है जिनमे रुदाली,  संघर्ष आदि सम्मिलित है. 28 जून 2016 को हार्ट अटैक से अस्पताल में भर्ती हुई देवी ने दम तोड़ दिया.

    महाश्वेता देवी की मृत्यु से शोक का माहौल छा गया जिसमे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं अन्य देशवासियों को दु:खी देखा गया. महाश्वेता देवी को उनके लेखन और समाजिक कार्यों के लिए उन्हें पद्मश्री, साहित्य अकेडमी अवॉर्ड, रैमन मैगसेसे अवॉर्ड, पद्मविभूषण जैसे प्रतिष्ठित पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है।

  • मुस्लिम गौ रक्षा संघ एक क्रन्तिकारी कदम :रामदास अठ... और भी...
  • रामदास पर हमला :दलितों में भारी आक्रोश :Z सिक्यूरि... और भी...
  • उद्धव ठाकरे एंड पार्टी ने मोदी सरकार को ललकारा :कह... और भी...
  • सुप्रीम कोर्ट परिसर में दाखिल होंगे मोदी :आतंकवाद ... और भी...
  • बिजनौर: स्वच्छता अभियान कर लोगों को जागरूक करने की... और भी...
ad
  • मेष

    सामाजिक प्रसंगों में सगे-संबंधियों और मित्रों के साथ आपका समय आनंदपूर्वक बीतेगा। मित्रों के पीछे धनखर्च होगा और उनके द्वारा लाभ भी होगा।

    मिथुन

    आज आपका भाग्य ही आपको सफलता दिलाएगा। आज सब कुछ आपकी इच्छा के अनुसार ही होगा। आपको लगेगा कि ये सब आपकी मेहनत से ना हो कर आपके सौभाग्य की वजह से हो रहा है। इस समय का पूरा लाभ उठाएं।

    कर्क

    आज किसी नए व्यक्ति से मिलने पर जिंदगी खुशियों से भर जाएगी। जिसके मिलने की आपने कल्पना भी नहीं की थी वही यकायक आपकी जिंदगी में आ जायेगा। व्यवसाय के लिए आज का दिन तरक्की वाला है।

    सिंह

    सांसारिक विषयों के बारे में उदासीन रहेंगे। आज मान हानि के योग बन रहे हैं। बेहतर होगा कि किसी भी तनावपूर्ण स्थिति में सयंम रखें और सोच-समझकर बोलें।

    कन्या

    प्रेम में मजबूती आएगी, रुका हुआ काम बनेगा, दौड़भाग बढ़ेगी

    तुला

    संतान की प्रगति होगी। प्रिय व्यक्ति के साथ मुलाकात रोमांचक रहेगी। तन-मन से ताजगी और स्फूर्ति का अनुभव करेंगे।

    वृश्चिक

    अनावश्यक दौड़भाग बढ़ेगा, नौकरी में तनाव हो सकता है, हनुमान चालीसा का पाठ करें

    धनु

    नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ समय है। मित्रों और सगे- संबंधियों के आगमन से घर में प्रसन्नता रहेगी। हाथ में लिए हुए कार्य सफलतापूर्वक पूरे होंगे।

    मकर

    संतान सुख मिलेगा, परिवार में खुशि‍यां आएंगी, उपहार मान सम्मान मिलेगा

    कुंभ

    गणेशजी के आशीर्वाद से शारीरिक-मानसिक रूप से आपका दिन प्रफुल्लित रहेगा। सगे- संबंधियों तथा मित्रों और पारिवारिक सदस्यों के साथ घर में उत्सव का वातावरण रहेगा। सुरुचिपूर्ण और मिष्टान्न का आनंद लेंगे। घूमने-फिरने और पर्यटन का कार्यक्रम आयोजित होगा

    मीन

    यह समय प्रतियोगी परीक्षा में भाग लेने के लिए अच्छा है। आपको सफलता जरूर मिलेगी। अपना आत्मविश्वास बनाए रखें व इस परीक्षा में पूरे आत्म-विश्वास के साथ भाग लें।नवीन कार्य करते हुए आप अवसरों का लाभ लेते हुए लंबा प्रयास कर सकते हैं। आप किसी बुरे सपने के कारण दिन भर परेशान रहेंगे।

  • *मुन्ना: अगर मां के चरणों में 'जन्नत' होती है तो

    नानी के चरणों में क्या होती है?

    सर्किट: सिंपल है भाई, नानी के चरणों में

    'जन्नत-2' होती है.

    सर्किट: भाई अब मोहल्ले के सारे लड़के इसको लाइन मारेंगे

    मुन्नाभाई: तू फिक्र मत कर, इसका नाम 'दीदी' रखेंगे

    *मुन्ना: ये चांद पर पहला कदम किसने रखा?

    सर्किट: नील आर्मस्ट्रॉन्ग ने

    मुन्ना: तो दूसरा कदम कसने रखा ?

    सर्किट:  क्या भाई!

    दूसरा भी तो उसी ने रखा होगा न

    वो लंगड़ा थोड़ी न था!

    * प्रिंसिपल: अगर कोई लड़का लड़कियों के हॉस्टल में गया तो पहली बार 100 रुपये, दूसरी बार 200 रुपये और तीसरी बार 500 रुपये फाइन लगेगा

    मुन्नाभाई: मंथली पास का कितना लगेगा मामू?

    * सर्किट: भाई, बापू ने बोला था कि कभी झूठ नहीं बोलने मांगता है। अपुन आज से कभी झूठ नहीं बोलेगा

    मुन्नाभाई: ऐ सर्किट, वो सुनीता का बाप आया है, तेरे को ढूंढ़ रहा है

    सर्किट: भाई उसको बोलो अपुन गांव गया है, खेती करने को

    मुन्नाभाई: पर सर्किट, अभी तो तू बोला कभी झूठ नहीं बोलेगा

    सर्किट: भाई, अपुन झूठ नहीं बोलेगा पर तुम तो बोल सकता है ना!