newstimesindia.com [Edited by: Mahi Jhawar]

Last updated: 27-12-2017 15:30:59 PM

  • गूगल हर बार नामी और विख्यात शख्शियतों को डूडल के जरिये नये-नये तरीकों से महत्वपूर्ण दिन को मनाता है. आज भी गूगल ने मशहूर शायर मिर्जा गालिब की 220वीं जयंती पर डूडल समर्पित किया है. गूगल ने Mirza Ghalib’s 220th Birthday शीर्षक से अपना डूडल बनाया.

    कौन है मिर्जा ग़ालिब?

    मिर्जा ग़ालिब का असली नाम मिर्जा असद-उल्लाह बेग खान था. अंग्रजों की हुकूमत में मिर्जा ग़ालिब का जन्म हुआ. अगर मुगल काल का कोई आखिरी महान शायर माना जाते है तो वह मिर्जा ग़ालिब. हालांकि बॉलीवुड और टेलीविजन में मिर्जा ग़ालिब पर बेहद कम काम हुआ है. परन्तु बॉलीवुड में सोहराब मोदी की फिल्म मिर्जा गालिब (1954) यादगार थी और टेलीविजन पर गुलजार का बनाया गया टीवी सीरियल मिर्जा गालिब (1988) आज भी लोगों के दिलों पर राज करता है. फिल्म की बात करे तो भारत भूषण ने लीड किरदार अदा किया है. वहीँ टीवी पर नसीरूद्दीन शाह ने गालिब को छोटे परदे पर जिंदा किया.

    आइये जानते है मिर्जा ग़ालिब के कुछ शेरों के बारे में.......

    कोई दिन और

    मैं उन्हें छेड़ूँ और कुछ न कहें

    चल निकलते जो में पिए होते

    क़हर हो या भला हो जो कुछ हो

    काश के तुम मेरे लिए होते

    मेरी किस्मत में ग़म गर इतना था

    दिल भी या रब कई दिए होते

    आ ही जाता वो राह पर ग़ालिब

    कोई दिन और भी जिए होते||

    बज़्म-ऐ-ग़ैर

    मेह वो क्यों बहुत पीते बज़्म-ऐ-ग़ैर में या रब

    आज ही हुआ मंज़ूर उन को इम्तिहान अपना

    मँज़र इक बुलंदी पर और हम बना सकते ग़ालिब

    अर्श से इधर होता काश के माकन अपना||

    साँस भी बेवफा

    मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब

    यह न सोचा के एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी||

    सारी उम्र

    तोड़ा कुछ इस अदा से तालुक़ उस ने ग़ालिब

    के सारी उम्र अपना क़सूर ढूँढ़ते रहे||

  • पहले मंदिर जा लिया भगवान जगन्नाथ का आशीर्वाद, फिर ... और भी...
  • बिना चश्मे के भी आपकी कमजोर नजर हो सकती है ठीक, जा... और भी...
  • ये शख्स के घर घड़ियाल से लेकर सांप से होगी मुलाक़ात... और भी...
  • अमेजन जल्द लेके आ रहा है Great Indian Festival, मि... और भी...
  • अमेरिका में महिलाओं से नौकरी के विज्ञापन छुपाने पर... और भी...
ad
  • मेष

    सामाजिक प्रसंगों में सगे-संबंधियों और मित्रों के साथ आपका समय आनंदपूर्वक बीतेगा। मित्रों के पीछे धनखर्च होगा और उनके द्वारा लाभ भी होगा।

    मिथुन

    आज आपका भाग्य ही आपको सफलता दिलाएगा। आज सब कुछ आपकी इच्छा के अनुसार ही होगा। आपको लगेगा कि ये सब आपकी मेहनत से ना हो कर आपके सौभाग्य की वजह से हो रहा है। इस समय का पूरा लाभ उठाएं।

    कर्क

    आज किसी नए व्यक्ति से मिलने पर जिंदगी खुशियों से भर जाएगी। जिसके मिलने की आपने कल्पना भी नहीं की थी वही यकायक आपकी जिंदगी में आ जायेगा। व्यवसाय के लिए आज का दिन तरक्की वाला है।

    सिंह

    सांसारिक विषयों के बारे में उदासीन रहेंगे। आज मान हानि के योग बन रहे हैं। बेहतर होगा कि किसी भी तनावपूर्ण स्थिति में सयंम रखें और सोच-समझकर बोलें।

    कन्या

    प्रेम में मजबूती आएगी, रुका हुआ काम बनेगा, दौड़भाग बढ़ेगी

    तुला

    संतान की प्रगति होगी। प्रिय व्यक्ति के साथ मुलाकात रोमांचक रहेगी। तन-मन से ताजगी और स्फूर्ति का अनुभव करेंगे।

    वृश्चिक

    अनावश्यक दौड़भाग बढ़ेगा, नौकरी में तनाव हो सकता है, हनुमान चालीसा का पाठ करें

    धनु

    नए कार्य की शुरुआत के लिए शुभ समय है। मित्रों और सगे- संबंधियों के आगमन से घर में प्रसन्नता रहेगी। हाथ में लिए हुए कार्य सफलतापूर्वक पूरे होंगे।

    मकर

    संतान सुख मिलेगा, परिवार में खुशि‍यां आएंगी, उपहार मान सम्मान मिलेगा

    कुंभ

    गणेशजी के आशीर्वाद से शारीरिक-मानसिक रूप से आपका दिन प्रफुल्लित रहेगा। सगे- संबंधियों तथा मित्रों और पारिवारिक सदस्यों के साथ घर में उत्सव का वातावरण रहेगा। सुरुचिपूर्ण और मिष्टान्न का आनंद लेंगे। घूमने-फिरने और पर्यटन का कार्यक्रम आयोजित होगा

    मीन

    यह समय प्रतियोगी परीक्षा में भाग लेने के लिए अच्छा है। आपको सफलता जरूर मिलेगी। अपना आत्मविश्वास बनाए रखें व इस परीक्षा में पूरे आत्म-विश्वास के साथ भाग लें।नवीन कार्य करते हुए आप अवसरों का लाभ लेते हुए लंबा प्रयास कर सकते हैं। आप किसी बुरे सपने के कारण दिन भर परेशान रहेंगे।

  • *मुन्ना: अगर मां के चरणों में 'जन्नत' होती है तो

    नानी के चरणों में क्या होती है?

    सर्किट: सिंपल है भाई, नानी के चरणों में

    'जन्नत-2' होती है.

    सर्किट: भाई अब मोहल्ले के सारे लड़के इसको लाइन मारेंगे

    मुन्नाभाई: तू फिक्र मत कर, इसका नाम 'दीदी' रखेंगे

    *मुन्ना: ये चांद पर पहला कदम किसने रखा?

    सर्किट: नील आर्मस्ट्रॉन्ग ने

    मुन्ना: तो दूसरा कदम कसने रखा ?

    सर्किट:  क्या भाई!

    दूसरा भी तो उसी ने रखा होगा न

    वो लंगड़ा थोड़ी न था!

    * प्रिंसिपल: अगर कोई लड़का लड़कियों के हॉस्टल में गया तो पहली बार 100 रुपये, दूसरी बार 200 रुपये और तीसरी बार 500 रुपये फाइन लगेगा

    मुन्नाभाई: मंथली पास का कितना लगेगा मामू?

    * सर्किट: भाई, बापू ने बोला था कि कभी झूठ नहीं बोलने मांगता है। अपुन आज से कभी झूठ नहीं बोलेगा

    मुन्नाभाई: ऐ सर्किट, वो सुनीता का बाप आया है, तेरे को ढूंढ़ रहा है

    सर्किट: भाई उसको बोलो अपुन गांव गया है, खेती करने को

    मुन्नाभाई: पर सर्किट, अभी तो तू बोला कभी झूठ नहीं बोलेगा

    सर्किट: भाई, अपुन झूठ नहीं बोलेगा पर तुम तो बोल सकता है ना!